BJP trying to do horse trading in jharkhand blame Rameshwar Oraon | झारखंड में कांग्रेस को सता रहा ‘ऑपरेशन लोटस’ का डर, BJP पर लगाया हॉर्स ट्रेडिंग का आरोप

BJP trying to do horse trading in jharkhand blame Rameshwar Oraon | झारखंड में कांग्रेस को सता रहा ‘ऑपरेशन लोटस’ का डर, BJP पर लगाया हॉर्स ट्रेडिंग का आरोप

[ad_1]

रांची: राजस्थान के सियासी हलचल की गूंज झारखंड में भी सुनाई देने लगी है. ‘ऑपरेशन लोट्स’ का डर झारखंड के सत्ताधारी दल में सुनाई देने लगा है. झारखंड कांग्रेस (Congress) के प्रदेश अध्यक्ष और हेमंत सोरेन (Hemant Soren) सरकार में मंत्री रामेश्वर उरांव ने बड़ा खुलासा किया है.

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा है कि, बीजेपी सूबे में ऑपरेशन लोट्स को साकार करने के लिए उनके विधायकों पर डोरे डाल रही है. उनके 4 विधायकों को पैसे और पद का प्रलोभन दिया गया. कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष की मानें तो, उनके 4 विधायको को खरीदने की कोशिश हुई. राज्यसभा चुनाव के समय ही तोड़ने का आरोप लगाया है.

वहीं, जेएमएम की मानें तो उसे इस बात का अंदेशा है कि, वो टार्गेट कर सकते हैं, लक्ष्मी की कृपा उन पर है, उनके पास धनबल की कमी नहीं है. उसी के बदौलत सब जगह खेल हुआ है. झारखंड का एक भी विधायक जो हमारे साथ महागठबन्धन (Mahagathbandhan) में हैं. किसी विधायक को खरीदने की ताकत बीजेपी में नहीं है. वो प्रयास करेगें प्रलोभन देगें पर, झारखंड की जनता के जनादेश का अपमान कोई विधायक नहीं करेगें.
 
झारखंड सरकार में शामिल आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष ने भी कहा कि, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष जो कह रहे हैं, उसमें बहुत हद तक सच्चाई भी है. जब उनके विधायक कह रहे हैं कि, प्रलोभन दिया जा रहा है तो, जो नहीं बोल रहे हैं उनको भी प्रलोभन दिया जा रहा होगा. इसके लिए निश्चित तौर पर केंद्र में बैठी सरकार जिम्मेदार है, क्योंकि वो सिर्फ दूसरों को नैतिकता का पाठ पढ़ाती है, लेकिन लाख प्रयास कर लें, झारखंड में अब उनकी सरकार नहीं बनने वाली है.
       
इधर, रामेश्वर उरांव के बयान पर झारखंड बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने पलटवार करते हुए कहा कि, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष का बयान बहुत ही आपत्तिजनक है. पहले वो अपने घर को संभालें, उन्हें अपने विधायको पर विश्वास नहीं है इस लिए अनाप-शनाप बयान दे रहे हैं.
 
वहीं, आजसू ने भी चुटकी लेते हुए कहा कि, इस सरकार का जन्म ही कोरोना काल मे हुआ है. जन्म के समय से ही ये सरकार एनिमिक है, आर्थिक रुप से संकट में है. जो शारीरिक रुप से कमजोर होगा, उस पर कोरोना का इम्पैक्ट होगा. ये डर का जो स्टेटमेंट आ रहा है, उससे लग रहा है कि सांस लेने में थोड़ी दिक्कत होने लगी है. विश्लेषण उनको करना चाहिए कहीं न कहीं कोई कमी है, इसलिए इस तरह की बातें सामने आ रही है.



[ad_2]

Source link

Related articles

Leave a Reply