Cgst Suprintendent Suspend In Bribe Case – झूठा केस बनाने की धमकी देकर घूस मांगने का मामला, सीजीएसटी अधीक्षक निलंबित, 3 की तलाश

Cgst Suprintendent Suspend In Bribe Case – झूठा केस बनाने की धमकी देकर घूस मांगने का मामला, सीजीएसटी अधीक्षक निलंबित, 3 की तलाश

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

सोनीपत के दवा उद्यमी से 9 लाख रुपये रिश्वत मांगने के मामले में रोहतक के केंद्रीय वस्तु एवं सेवा कर (सीजीएसटी) विभाग के गिरफ्तार अधीक्षक को सीजीएसटी आयुक्त ने रविवार को निलंबित कर दिया है। वहीं, भ्रष्टाचार में शामिल तीन अन्य आरोपियों को कर अपवंचन शाखा से मुक्त कर दिया है। राई की रिसर्च मेडिसिन प्रा.लि. कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर मनोज कालरा व डायरेक्टर चंद्र मोहन की शिकायत पर सीबीआई की टीम ने सेक्टर-3 निवासी अधीक्षक कुलदीप हुड्डा को 15 अगस्त को करीब 64 लाख रुपये के साथ गिरफ्तार किया।

इस मामले में सीबीआई की ओर से जानकारी मिलने के बाद सीजीएसटी आयुक्त ने रविवार को अवकाश के दिन कार्यालय खोलकर यह कार्रवाई की। मामले में कुलदीप हुड्डा के अलावा अधीक्षक गुरविंदर सिंह सोहल, इंस्पेक्टर रोहित मलिक व इंस्पेक्टर प्रदीप को आरोपी हैं। यह तीनों अभी सीबीआई की गिरफ्त से बाहर हैं। उधर, विभाग को अब तक सीबीआई की ओर से कोई भी लिखित पत्राचार नहीं हुआ है। इसके आने के बाद उक्त तीनों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

15 अगस्त को सीबीआई ने खुलवाया था सीजीएसटी कार्यालय
सोनीपत के शिकायतकर्ता की जांच के दौरान सीबीआई की टीम ने 15 अगस्त को सीजीएसटी कार्यालय खुलवाया था। जहां पर जांच से जुड़ी जानकारी मांगी गई थी। जिसे विभाग की ओर से टीम को उपलब्ध कराया गया है।
1. क्या टीम के लोग सर्च वारंट के बाद सोनीपत गए थे।
2. शिकायतकर्ता के ऑफिस आने व दी गई जानकारी के लिए सीसीटीवी फुटेज ली गई।
3. राई की रिसर्च मेडिसन प्रा.लि. कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर मनोज कालरा व डायरेक्टर चंद्र मोहन की फाइल का विवरण लिया।
 
सीबीआई रिमांड के दौरान कुलदीप हुड्डा को लेकर आ सकती है रोहतक  
सीबीआई की ओर से पूरे मामले की जांच चल रही है। उसे चार दिन की पुलिस रिमांड पर लिया। पहले दिन पूछताछ के बाद मिली जानकारी के बाद उसे निशानदेही के लिए रोहतक लेकर आ सकती है। सूत्रों के अनुसार आरोपी के घर से बरामद हुए रुपये की जांच जारी है। इतनी बड़ी रकम घर पर क्यों थी और कहां से आई।

सीबीआई मामले की जांच कर रही है। अधीक्षक की गिरफ्तारी की सूचना के बाद उसे निलंबित कर दिया गया है। जबकि तीन अन्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज है। इसके कारण उन्हें कर अपवंचन शाखा से हटा दिया जाएगा। इसके अलावा सीबीआई की जांच में पूरा सहयोग किया जाएगा।
– विजय मोहन जैन, आयुक्त, सीजीएसटी रोहतक

सोनीपत के दवा उद्यमी से 9 लाख रुपये रिश्वत मांगने के मामले में रोहतक के केंद्रीय वस्तु एवं सेवा कर (सीजीएसटी) विभाग के गिरफ्तार अधीक्षक को सीजीएसटी आयुक्त ने रविवार को निलंबित कर दिया है। वहीं, भ्रष्टाचार में शामिल तीन अन्य आरोपियों को कर अपवंचन शाखा से मुक्त कर दिया है। राई की रिसर्च मेडिसिन प्रा.लि. कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर मनोज कालरा व डायरेक्टर चंद्र मोहन की शिकायत पर सीबीआई की टीम ने सेक्टर-3 निवासी अधीक्षक कुलदीप हुड्डा को 15 अगस्त को करीब 64 लाख रुपये के साथ गिरफ्तार किया।

इस मामले में सीबीआई की ओर से जानकारी मिलने के बाद सीजीएसटी आयुक्त ने रविवार को अवकाश के दिन कार्यालय खोलकर यह कार्रवाई की। मामले में कुलदीप हुड्डा के अलावा अधीक्षक गुरविंदर सिंह सोहल, इंस्पेक्टर रोहित मलिक व इंस्पेक्टर प्रदीप को आरोपी हैं। यह तीनों अभी सीबीआई की गिरफ्त से बाहर हैं। उधर, विभाग को अब तक सीबीआई की ओर से कोई भी लिखित पत्राचार नहीं हुआ है। इसके आने के बाद उक्त तीनों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

15 अगस्त को सीबीआई ने खुलवाया था सीजीएसटी कार्यालय

सोनीपत के शिकायतकर्ता की जांच के दौरान सीबीआई की टीम ने 15 अगस्त को सीजीएसटी कार्यालय खुलवाया था। जहां पर जांच से जुड़ी जानकारी मांगी गई थी। जिसे विभाग की ओर से टीम को उपलब्ध कराया गया है।


आगे पढ़ें

सीबीआई ने ली यह जानकारी

Source link

Related articles

Leave a Reply