India China Border Clash: Indian Army Bihar Regiment Gave A Tough Fight To Chinese Army In Galwan Valley – सिचुएशन रिपोर्ट में खुलासा, सेना ने गलवां घाटी में बायोनट फाइट से चीनी खेमे में मचाई थी तबाही

India China Border Clash: Indian Army Bihar Regiment Gave A Tough Fight To Chinese Army In Galwan Valley – सिचुएशन रिपोर्ट में खुलासा, सेना ने गलवां घाटी में बायोनट फाइट से चीनी खेमे में मचाई थी तबाही

[ad_1]

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Sat, 18 Jul 2020 07:47 PM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

15 जून की रात को लद्दाख सीमा पर गलवां घाटी में भारत-चीन सैनिकों के बीच खूनी झड़प को लेकर सिचुएशन रिपोर्ट में कई नई बातें सामने आ रही हैं। भारतीय सैनिकों ने इस दौरान जबरदस्त साहस और ताकत का प्रदर्शन किया था। सेना ने गलवां घाटी में बायोनट फाइट से चीनी खेमे में तबाही मचाई थी। 

15 जून की रात ही बिहार रेजिमेंट ने कर्नल समेत 20 जवानों की शहादत का बदला ले लिया था। इस दौरान आर्टिलरी रेजिमेंट ने भी शौर्य दिखाया था। सैनिकों ने संगीन लगे बंदूक से चीनियों को धूल चटाई थी। कई चीनी सैनिकों की गर्दन तोड़ी थी। इस दौरान चीनी सेना के सीओ समेत तीन अधिकारियों को बंधक भी बनाया था। 
 
सेना की सिचुएशन रिपोर्ट में उस रात हुई घटना का ब्यौरा दिया गया है। इसमें गलवां नदी पर चीन के बनाए बांध के टूटने का भी जिक्र है। चीनी सैनिकों की मौत के बारे में वहां की सरकार ने अपने देशवासियों के साथ भी जानकारी को साझा नहीं किया। 

रिपोर्ट के मुताबिक, भारतीय सैनिकों ने वॉर क्राई जय बजरंग बली और बिरसा मुंडा की जय के घोष के साथ चीनी सैनिकों पर धावा बोला था। रिपोर्ट में चीनी सैनिकों के गलवां नदी पर एक बांध के खुलने और बहाव में दर्जनों चीनी सैनिकों के बह जाने का भी जिक्र है। यह रिपोर्ट पीएम मोदी के ‘मारते मारते मरे हमारे सैनिक’ वाले बयान की भी तस्दीक करती है जो उन्होंने सर्वदलीय बैठक में दिया था।

15 जून की रात को लद्दाख सीमा पर गलवां घाटी में भारत-चीन सैनिकों के बीच खूनी झड़प को लेकर सिचुएशन रिपोर्ट में कई नई बातें सामने आ रही हैं। भारतीय सैनिकों ने इस दौरान जबरदस्त साहस और ताकत का प्रदर्शन किया था। सेना ने गलवां घाटी में बायोनट फाइट से चीनी खेमे में तबाही मचाई थी। 

15 जून की रात ही बिहार रेजिमेंट ने कर्नल समेत 20 जवानों की शहादत का बदला ले लिया था। इस दौरान आर्टिलरी रेजिमेंट ने भी शौर्य दिखाया था। सैनिकों ने संगीन लगे बंदूक से चीनियों को धूल चटाई थी। कई चीनी सैनिकों की गर्दन तोड़ी थी। इस दौरान चीनी सेना के सीओ समेत तीन अधिकारियों को बंधक भी बनाया था। 

 

सेना की सिचुएशन रिपोर्ट में उस रात हुई घटना का ब्यौरा दिया गया है। इसमें गलवां नदी पर चीन के बनाए बांध के टूटने का भी जिक्र है। चीनी सैनिकों की मौत के बारे में वहां की सरकार ने अपने देशवासियों के साथ भी जानकारी को साझा नहीं किया। 

रिपोर्ट के मुताबिक, भारतीय सैनिकों ने वॉर क्राई जय बजरंग बली और बिरसा मुंडा की जय के घोष के साथ चीनी सैनिकों पर धावा बोला था। रिपोर्ट में चीनी सैनिकों के गलवां नदी पर एक बांध के खुलने और बहाव में दर्जनों चीनी सैनिकों के बह जाने का भी जिक्र है। यह रिपोर्ट पीएम मोदी के ‘मारते मारते मरे हमारे सैनिक’ वाले बयान की भी तस्दीक करती है जो उन्होंने सर्वदलीय बैठक में दिया था।

[ad_2]

Source link

Related articles

Leave a Reply