शिथिलता न बरती जाये, संचारी रोग की रोकथाम हेतु सफाई व्यवस्था बेहतर की जाये- कंचन वर्मा : News & Features Network

शिथिलता न बरती जाये, संचारी रोग की रोकथाम हेतु सफाई व्यवस्था बेहतर की जाये- कंचन वर्मा : News & Features Network

मुजफ्फरनगर-  शासन द्वारा नामित नोडल अधिकारी/उपाध्यक्ष गाजियाबाद विकास प्राधिकरण, श्रीमती कंचन वर्मा ने आज जिला पंचायत सभागार मे संचारी रोग नियंत्रण अभियान,स्वच्छता, पेयजल व्यवस्था एवं कोविड संक्रमण के सम्बन्ध में अधिकारियों के साथ बैठक की।

उन्होने कहा कि 01 जुलाई से 31 जुलाई तक संचारी रोग नियंत्रण अभियान एवं 16 जुलाई से 31 जुलाई तक दस्तक अभियान चलाया जा रहा है। उन्होने गत वर्ष की भांति इस वर्ष भी संचारी रोगो की रोकथाम के लिए प्रभावी उपाय अपनाते हुए व्यापक अभियान चलाया जाये।

संचारी रोग अभियान की समीक्षा में डा0 अलका ने नोडल अधिकारी को बताया कि संचारी रोग अभियान का यह दूसरा चरण प्रारम्भ किया गया है। उन्होने बताया कि जनपद में वैक्टर जनित रोगो को कमी आई है। उन्होने बताया कि 2018 में 199 मरीज मलेरिया मिले थे, 2019 में संख्या घटकर 100 रह गई थी।

उनहोने बताया अभियान के अन्तर्गत अभी तक 10 हजार खून की जांच की जा चुकी है। उन्होने बताया कि शनिवार व रविवार को विशेष अभियान चलाया जा रहा है। मेडिकल स्टाॅफ को प्रशिक्षण भी समय समय पर प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है।

डीपीआरओ ने अवगत कराया कि इस अभियान के अन्तर्गत ग्रामों में साफ सफाई, हैण्डपम्प रिबोर कराये गये है। गांवों में फाॅगिंग व सैनेटाइजर का छिडकाव कराया जा रहा है।

गांव की नालियों की सफाई आदि कार्य कराये जा रहे है। 2894 सोख्ता गढढे इस अभियान में बनाये गये है। 1039 नालियांे को तालाबों से जोडा गया है। गांवों में 2327 डस्टबिन भी लगाये गये है।

उन्होने निर्देश दिये कि गांवों में सफाई कर्मियों की नियमित तैनाती की जाये उनका एक प्रोटोकाॅल बनाया जाये, गंावों में जहंा जहां पर जल भराव की समस्या है ऐसे गांवों को चिन्हित करते हुए समस्या का समाधान किया जाये।

उन्होने अधिशासी अधिकारियों को निर्देश दिये की वार्डो में नियमित सफाई कराई जाये, कूडे का डोर टू डोर कलैक्शन किया जाये जिसमें गीला कूडा अलग व सूखा कूडा अलग होना चाहिए। उन्होने कहा कि वार्डो में फाॅगिग व सैनेटाईजर का छिडकाव कराया जाये।

उन्होने कहा कि संचारी रोगो की रोकथाम के लिए चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग, नगर विकास विभाग, पंचायती राज विभाग/ग्राम्य विकास विभाग, पशुपालन विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग, शिक्षा विभाग, चिकित्सा शिक्षा विभाग, दिव्यांगजन कल्याण विभाग/समाज कल्याण विभाग, कृषि एवं सिंचाई विभाग एवं सूचना विभाग के बीच आपसी समन्वय स्थापित करते हुए कार्यवाही की जाये।

उन्होने निर्देश दिये कि नगर विकास विभाग नगरीय क्षेत्रों में वातावरणाीय तथा व्यक्तिगत स्वच्छता के उपायों, शुद्ध पेयजल के प्रयोग तथा मच्छरों की रोकथाम के लिए जागरूकता अभियान संचालित किये जाये। पंचायती राज विभाग/ग्राम्य विकास विभाग ग्राम स्तर पर साफ-सफाई, हाथ धोना, शौचालय की सफाई तथा घर से जल निकासी के लिए, शुद्ध पेयजल की व्यवस्था आदि की जाये।

इस अभियान में कोविड-19 रोग के संक्रमण के दृष्टिग विशेष सावधानियां अपनाते हुए आवश्यक निर्देशों का अनुपालन किया जाये।कोविड संक्रमण के सम्बन्ध में मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 प्रवीण चोपडा ने बताया कि जनपद में अनालाॅक के बाद कोरोना सक्रमण के केस अधिक बढे है।

नोडल अधिकारी ने कहा कि अधिक से अधिक सैम्पलिंग कराई जाये, उन्होने कहा कि प्राईवेट डाक्टर सदिंग्ध मरीज मिलने पर तत्काल मुख्य चिकित्साधिकारी अथववा जिला सर्विंलांस अधिकारी को सूचित करे ताकि समय रहते मेडिकल टीम भेजकर आवश्यक कार्यवाही की जा सके। उनहोने कहा कि प्रत्येक सीएचसी, पीएचसी, जिला अस्पताल, कार्यालयों, प्राइवेट नर्सिंग होम, नगर पालिका, नगर पंचायत आदि स्थानों पर कोविड-19 हैल्प डैस्क की स्थापना की जाये।

नोडल अधिकारी ने कहा कि डोर टू डोर सर्वे कर रही टीम द्वारा सदिंग्ध मिलने पर जिसे खांसी, जुखाम या बुखार की शिकायत हो तत्काल उसका चैकअप/उपचार दिलाया जाये और उसकी सूचना तत्काल सम्बन्धित क्षेत्र के मेडिकल आफिसर को दी जाये। उन्होने कहा कि जो व्यक्ति सीएचसी, पीएचसी या जिला अस्पताल में आ रहा है उसका आॅक्सीजन लेवल टैस्ट अवश्य कराया जाये। उन्होने महिला अस्पताल व जिला चिकित्सालय में दी जा रही ओपीडी सेवाओं के बारे में भी जानकारी प्राप्त की।

उन्होने हाॅई रिस्क व लो रिक्स केस व कंटेनमेंट जोन के सम्बन्ध में भी समीक्षा की। उन्होंने कहा कि कोविड-19 एवं संचारी रोगों के नियंत्रण के लिये प्रत्येक सामुदायिक एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध एण्टी लार्वा का प्रत्येक ग्राम पंचायत में छिड़काव कराया जाये। नगरीय क्षेत्रों में अनिवार्यरूप से फोगिंग व हैण्डपम्पों के आसपास सफाई कराई जाये। कहीं जलभराव न हो। सभी स्थानों पर नालियों एवं कूड़े की साफ सफाई पर विेशेष ध्यान दिया जाये।

नोडल अधिकारी ने सफाई व्यवस्था के दृष्टिगत शहर के वार्ड 23 व 43 में जाकर सफाई व्यवस्था का स्थलीय निरीक्षण किया। उनहोन अधिकारियों को निर्देश दिये कि नियमित सफाई कराई जाये, फाॅगिंग, एन्टी लार्वा का छिडकाव किया जाये। उनहोने कहा कि पानी की निकासी की उचित व्यवस्था कराई जाये। इस अवसर पर नोडल अधिकारी ने स्थानीय नागरिकों के संवाद स्थापित कर सफाई व्यवस्था के बारे में भी जानकारी प्राप्त की।

इसके पश्चात नोडल अधिकारी ने बेगराजपुर मेडिकल काॅलेज में बनाये गये कोविड केयर अस्पताल की व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया। उन्होने कंट्रोल रूम जाकर सीसीटीवी के माध्यम से मरीजों को दी रही सुविधाओ का निरीक्षण भी किया।

अस्पताल प्रशासन द्वारा दी जा रही सुविधाओं, खाना, नाश्ता, डाक्टर की विजिट आदि के बारे में विस्तार से पूछा। उन्होने कहा कि मरीजों का बेहतर सुविधाएं प्रदान की जा रही है। उन्होने एल 1 व एल 2 के विषय मे एवं मरीजों को दी जाने वाली डाइट के विषय में भी जानकारी प्राप्त की।

  इस अवसर पर जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे, मुख्य विकास अधिकारी आलोक यादव, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 प्रवीण चोपडा, अपर जिलाधिकारी वि0/रा0, अपर जिलाधिकारी प्रशासन अमित सिह, नगर मजिस्ट्रेट अतुल कुमार, सभी एसडीएम सहित सम्बन्धित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

For Full News ClickShamli news

Leave a Reply