Madhya Pradesh Politics Narottam Mishra and Bhupendra Gupta involves in Shero Shayari Spat | MP: नरोत्तम मिश्रा का शायराना तंज- ‘रात मतवाली’, कांग्रेस का जवाब

Madhya Pradesh Politics Narottam Mishra and Bhupendra Gupta involves in Shero Shayari Spat | MP: नरोत्तम मिश्रा का शायराना तंज- ‘रात मतवाली’, कांग्रेस का जवाब

भोपाल: मध्य प्रदेश की सियासत में शेरो-शायरी का दौर चल पड़ा है. सूबे के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस के जंबों पदाधिकारियों पर मुस्कुराते हुए तंज कसा और दो पंक्तियां कहीं- ‘रात है ऐसी मतवाली तो सुबह का आलम क्या होगा.’ कांग्रेस भी जवाब देने में पीछे नहीं रही. भूपेंद्र गुप्ता ने शायराना अंदाज में ही नरोत्तम मिश्रा को जवाब दिया- ‘वो आपकी नहीं, दूसरे की थाली है.’

गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा कांग्रेस की उपचुनाव की तैयारियों के तहत पोलिंग बूथ स्तर पर भाजपा की तरह पन्ना प्रभारियों की व्यवस्था लागू करने को लेकर मीडिया से चर्चा कर रहे थे. नरोत्तम मिश्रा ने 3700 पदाधिकारियों वाला संगठन कहते हुए एमपी कांग्रेस का मजाक उड़ाया. उन्होंने मुस्कुराते हुए कहा, ”मध्य प्रदेश कांग्रेस दुनिया का सबसे बड़ा संगठन है. इसके बाद दो लाइनें भी कह दीं- जब रात है ऐसी मतवाली तो सुबह का आलम क्या होगा.”

राम मंदिर भूमिपूजन के समर्थन में उतरे कमलनाथ, दिग्विजय कर चुके हैं शिलान्यास का विरोध

नरोत्तम मिश्रा को जवाब मिला कांग्रेस मीडिया विभाग के उपाध्यक्ष और विचार विभाग के प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र गुप्ता की ओर से. गुप्ता ने भी शायराना अंदाज में कहा, ”बेशक हमारी रात मतवाली है, पर तेरी सुबह क्यों इतनी काली है. टूट पड़े जिस पर इस तेजी से हुजूर, वो आपकी नहीं, किसी दूसरे की थाली है.” भूपेंद्र  गुप्ता ने कहा कि बीजेपी मिस कॉल वाली पार्टी है. बीजेपी में सब वर्चुअल है, एक्चुअल कुछ भी नहीं. ये सब हवा का गुब्बारा है.

नरोत्तम मिश्रा इससे पहले भी शायराना अंदाज में कांग्रेस पर हमले करते रहे हैं. जब पूर्व सीएम कमलनाथ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखकर विधायकों की खरीद-फरोख्त को रोकने की अपील की थी, तब भी नरोत्तम मिश्रा ने शायराना अंदाज में कहा था- ”मुख्तसर सी ज़िंदगी का बस इतना फसाना है, तीर भी चलाना है और परिंदों को भी बचाना है.” तब कांग्रेस विधायक कुणाल चौधरी ने नरोत्तम मिश्रा को शायराना अंदाज में ही जवाब दिया था- ”इन बेपनाह अंधेरों को सुबह कैसे कहूं, मैं इन अंधेरों का अंधा तमाशबीन नहीं.”

MP: विश्वविद्यालय सहित इन विभागों के कर्मचारियों को नहीं मिलेगा इंक्रीमेंट, जानिए वजह

आपको बता दें कि मध्य प्रदेश में आने वाले दिनों में विधानसभा की 27 सीटों पर उपचुनाव होने हैं. राज्य के दोनों ही प्रमुख दलों की तैयारियों पर कोरोना महामारी का बुरा असर पड़ रहा है. मध्य प्रदेश में कोरोना के मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नेताओं के राजनीतिक दौरों और कार्यक्रमों पर 14 अगस्त तक के लिए रोक भी लगा दी है. ऐसे में भाजपा और कांग्रेस नेताओं के बीच यह शायराना जंग दिलचस्प बन पड़ी है.

WATCH LIVE TV



[

Source link

Related articles

Leave a Reply