हरियाणा विधानसभा का मॉनसून सत्र बुलाने की तैयारी शुरू, अधिकारी व दर्शक दीर्घा में बैठेंगे विधायक

हरियाणा विधानसभा का मॉनसून सत्र बुलाने की तैयारी शुरू, अधिकारी व दर्शक दीर्घा में बैठेंगे विधायक

[ad_1]

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

हरियाणा विधानसभा का मॉनसून सत्र बुलाने की तैयारी शुरू हो गई है। विधानसभा सचिवालय कोरोना के दौरान सत्र के आयोजन में जुट गया है। कोरोना के कारण सरकार व विधानसभा ने सत्र न टालने का फैसला किया है। शारीरिक दूरी के साथ सत्र कराया जाएगा, विधायक उचित दूरी पर बैठेंगे। अधिकारी व दर्शक दीर्घा में भी विधायकों को बिठाया जाएगा। सरकार व विधानसभा सचिवालय पहले वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये सत्र के आयोजन पर विचार कर रहे थे, जिस पर सहमति नहीं बन पाई है।

इसलिए विधानसभा सचिवालय ने सत्र के आयोजन की तैयारियां शुरू कर दी हैं। विधायकों ने प्रश्न भी भेजने शुरू कर दिए हैं। कोरोना के कारण हरियाणा सरकार चाहती थी कि इस बार सत्र का आयोजन न किया जाए। इस बीच वीडियो कान्फ्रेंसिंग से भी सत्र के आयोजन का सुझाव आया। इस पर सहमति न बनने पर स्पीकर ज्ञान चंद गुप्ता ने सत्र के आयोजन की तैयारियां शुरू करने के निर्देश दे दिए हैं। मंत्रिमंडल बैठक में भी सत्र को लेकर चर्चा हुई थी। सूत्रों के अनुसार, सत्र अगस्त में बुलाया जा सकता है।

मंत्रिमंडल की अगली बैठक में सत्र की तारीख तय होने की उम्मीद है। सत्र की अवधि विधानसभा की बिजनेस एडवाइजरी कमेटी में तय होगी, लेकिन कोरोना के चलते सत्र के तीन दिन से ज्यादा चलने की संभावना नहीं है। विधानसभा के प्रश्नकाल में किन विधायकों के कौन से सवाल लगेंगे, यह ड्रा से तय होगा। पिछली बार विधानसभा स्पीकर ने ऐसा प्रयोग किया था, जो काफी सफल रहा। विधानसभा में इस बार दर्शक दीर्घा में दर्शक नहीं होंगे। स्पीकर के सामने की 45 सीट पर इस बार दो नहीं एक विधायक बैठेगा।

मॉनसून सत्र में इस बार जो व्यवस्था अपनाई जा सकती है, उसके मुताबिक स्पीकर के आसन के सामने एक सीट पर एक विधायक ही बैठेगा। कुछ विधायकों को दर्शक दीर्घा तो कुछ विधायकों को अधिकारी गैलरी में बिठाया जाएगा।

हरियाणा विधानसभा का मॉनसून सत्र बुलाने की तैयारी शुरू हो गई है। विधानसभा सचिवालय कोरोना के दौरान सत्र के आयोजन में जुट गया है। कोरोना के कारण सरकार व विधानसभा ने सत्र न टालने का फैसला किया है। शारीरिक दूरी के साथ सत्र कराया जाएगा, विधायक उचित दूरी पर बैठेंगे। अधिकारी व दर्शक दीर्घा में भी विधायकों को बिठाया जाएगा। सरकार व विधानसभा सचिवालय पहले वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये सत्र के आयोजन पर विचार कर रहे थे, जिस पर सहमति नहीं बन पाई है।

इसलिए विधानसभा सचिवालय ने सत्र के आयोजन की तैयारियां शुरू कर दी हैं। विधायकों ने प्रश्न भी भेजने शुरू कर दिए हैं। कोरोना के कारण हरियाणा सरकार चाहती थी कि इस बार सत्र का आयोजन न किया जाए। इस बीच वीडियो कान्फ्रेंसिंग से भी सत्र के आयोजन का सुझाव आया। इस पर सहमति न बनने पर स्पीकर ज्ञान चंद गुप्ता ने सत्र के आयोजन की तैयारियां शुरू करने के निर्देश दे दिए हैं। मंत्रिमंडल बैठक में भी सत्र को लेकर चर्चा हुई थी। सूत्रों के अनुसार, सत्र अगस्त में बुलाया जा सकता है।

मंत्रिमंडल की अगली बैठक में सत्र की तारीख तय होने की उम्मीद है। सत्र की अवधि विधानसभा की बिजनेस एडवाइजरी कमेटी में तय होगी, लेकिन कोरोना के चलते सत्र के तीन दिन से ज्यादा चलने की संभावना नहीं है। विधानसभा के प्रश्नकाल में किन विधायकों के कौन से सवाल लगेंगे, यह ड्रा से तय होगा। पिछली बार विधानसभा स्पीकर ने ऐसा प्रयोग किया था, जो काफी सफल रहा। विधानसभा में इस बार दर्शक दीर्घा में दर्शक नहीं होंगे। स्पीकर के सामने की 45 सीट पर इस बार दो नहीं एक विधायक बैठेगा।

मॉनसून सत्र में इस बार जो व्यवस्था अपनाई जा सकती है, उसके मुताबिक स्पीकर के आसन के सामने एक सीट पर एक विधायक ही बैठेगा। कुछ विधायकों को दर्शक दीर्घा तो कुछ विधायकों को अधिकारी गैलरी में बिठाया जाएगा।

[ad_2]

Source link

Related articles

Leave a Reply