कोटा प्रभारी सचिव ने की कोरोना संक्रमण रोकथाम के प्रयासों की समीक्षा, दिए ये निर्देश

कोटा प्रभारी सचिव ने की कोरोना संक्रमण रोकथाम के प्रयासों की समीक्षा, दिए ये निर्देश

कोटा: अध्यक्ष एवं प्रबन्ध निदेशक राज्य भंडार व्यवस्था निगम और जिला प्रभारी सचिव पवन कुमार गोयल ने कहा कि कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए आम लोगों को जागरूकता करते हुए सरकार द्वारा जारी गाइड लाइन की पालना सुनिश्चित कराएं. 

जिला प्रभारी सचिव टैगोर सभागार में कोरोना की रोकथाम के लिए किये जा रहे प्रयासों की समीक्षा करते हुए उपस्थित अधिकारियों को सम्बोधित कर रहे थे. संबोधित करते हुए उन्होंने सभी विभागों को आपसी समन्यवय से कार्य करते हुए कोरोना संक्रमण को रोकने में दिए गए दायित्वों की समय पर पालना करने और आम नागरिकों को जागरूक करने में भी सक्रिय भागीदारी निभाने का आव्हान किया. 

उन्होंने कहा कि कोरोना के साथ जीवन जीने की आदतें हम सबको विकसित करनी होंगी. सतर्कता के साथ अपने दैनिक कार्य पूरे करने होगें. कोरोना से लोग डरें नहीं बल्कि सावचेत रहे और संक्रमण को रोकने के लिए बनाई गई गाइड लाइन की पालना करें यह सुनिश्चित किया जाए. प्रत्येक नागरिक घर से निकलते समय मास्क का उपयोग करें, सामाजिक दूरी का पालन करें, बार-बार सैनेटाइज से हाथ धोते रहें यह आदत विकसित करनी हैं. उन्होंने व्यवसायिक प्रतिष्ठानों, राजकीय कार्यालयों, सार्वजनिक स्थानों पर कोरोना प्राटोकॉल की पालना नहीं करने वालों के खिलाफ सख्त कार्यवाही करने के निर्देश दिए.

प्लाज्मा डोनेट करने के लिए प्रेरित करें
जिला प्रभारी सचिव ने कहा कि कोरोना जांच के लिए नमूने एकत्रित करने में पूरी क्षमता से कार्य करें. पॉजिटिव कितने पाये गए, इसकी समीक्षा कर समय पर इलाज की सुविधा प्रदान कर रिकवर करने तथा मृत्युदर कम करने में जोर दें. उन्होंने अस्पताल में भर्ती रोगियों, होम कोरेंटाइन किये गए रोगियों की जांच कर प्राटोकॉल के अनुसार इलाज की सुविधा प्रदान करने के निर्देश दिए. प्लाज्मा से इलाज के लिए संक्रमण से मुक्त हो चुके नागरिकों को प्लाज्मा डोनेट करने के लिए प्रेरित कर पंजीयन करें, जिससे आवश्यता पड़ने पर बुलाया जा सके. 

बेसिक सुविधाओं का रखा जाए ध्यान
जिला प्रभारी सचिव ने जिले में पेयजल व्यवस्था, विद्युत आपूर्ति तथा सिंचाई की सुविधाओं की भी समीक्षा कर आपूर्ति सुचारू बनाये रखने के निर्देश दिए. उन्होंने जिले में खरीफ की बुवाई, फसलों की वर्तमान स्थिति तथा उर्वरकों की आपूर्ति की समीक्षा कर किसानों से निरन्तर संवाद बनाये रखकर समस्या दूर करने के निर्देश दिए. आत्मनिर्भर भारत योजना के तहत स्ट्रीट वेंडर्स का सर्वे पूरा कर ऋण दिलाने के लिए सहायता करने, सामाजिक सुरक्षा योजनाओं के पात्र जनों को समय पर भुगतान करने के निेर्दश दिए. 

नगर विकास न्यास, नगर निगम तथा सार्वजनिक निर्माण विभाग के प्रगतिरत कार्यो की समीक्षा समय पर गुणवत्ता के साथ कार्य पूरा कराने के निर्देश दिए. ग्रामीण विकास योजनाओं तथा उद्योग विभाग की योजनाओं की समीक्षा के दौरान मनरेगा में लोगों को रोजगार उपलब्ध कराने, श्रमिकों को उद्योगों से समन्यवय कर रोजगार के लिए प्रेरित करने के निर्देश दिए. 

10 हजार से अधिक चालान बनाये जा चुके
जिला कलक्टर उज्जवल राठौड़ ने जिले में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के प्रयासों की जानकारी दी. जागरूकता को गति देते हुए सभी अधिकारियों को दायित्व पूरा करने के निर्देश दिए. पुलिस अधीक्षक शहर गौरव यादव ने बताया कि कोरोना प्रोटोकॉल का पालन नहीं करने के 10 हजार से अधिक चालान बनाये जा चुके हैं. पुलिस अधीक्षक ग्रामीण शरद चौधरी ने सीएलजी सदस्यों के साथ चलाये जागरूकता कार्यक्रम के बारे में बताया. अतिरिक्त कलक्टर शहर आरडी मीणा ने नियंत्रण कक्ष की व्यवस्था तथा प्रशासनिक व्यवस्थाओं के बारे में बताया. 

प्राचार्य मेडिकल कॉलेज डॉ. विजय सरदाना ने बताया कि वर्तमान में 1 लाख 36 हजार कोरोना टेस्ट किये जा चुके हैं तथा 3500 टेस्ट प्रतिदिन की क्षमता है. उन्होंने अस्पतलों में की गई व्यवस्था के बारे में जानकारी दी. सीएमएचओ डॉ. भूपेन्द्रसिंह तंवर ने होम आइसोलेशन के रोगियों के लिए अपनाई जा रही पद्धति और नमूने लेने के लिए टीमों के गठन और नमूने की प्रक्रिया के बारे में बताया.

[

Source link

Related articles

Leave a Reply